मौसम के बदलने के समय वायरल फीवर होता है। जब भी मौसम बदलता है तब तापमान के उतार-चढ़ाव के कारण शरीर का इम्यून सिस्टम थोड़ा कमजोर हो जाता है। वयराल बुखार एक मौसमी स्ँक्रमण वाला बुखार है । इस बुखार से निपटने के लिए कुछ घरेलू नुकसे आज़मा सकते है , जिससे जल्द राहत मिल जाती है

तुलसी– तुलसी का एन्टी बायोटीक और एन्टी बैक्टिरीअल गुण वायरल फीवर के लक्षणों से राहत दिलाने में बहुत मदद करते हैं।  ताजा तुलसी के पत्तों को एक लीटर पानी में एक चम्मच लौंग पावडर डालकर तब तक उबालें जब तक कि वह सुख कर आधा न हो जाये। उसके बाद उसको छानकर हल्का ठंडा करके दो घंटा के अंतराल में पीयें।

हल्दी और सौंठ का पाउडर:-अदरक में एंटी आक्सिडेंट गुण बुखार को ठीक करते हैं, एक चम्मच काली मिर्च का चूर्ण, एक छोटी चम्मच हल्दी का चूर्ण और एक चम्मच सौंठ यानी अदरक के पाउडर को एक कप पानी और हल्की सी चीनी डालकर गर्म कर लें. जब यह पानी उबलने के बाद आधा रह जाए तो इसे ठंडा करके पिएं,इससे वायरल फीवर मे  आराम मिलता है.

मेथी का पानी:- मेथी के दानों को एक कप में भरकर इसे रात भर के लिए भिगों लें और सुबह के समय इसे छानकर हर एक घंटे में पिएं,इससे आपको वायरल बुखार मे जल्द ही आराम मिलेगा.

Some tips to protect for viral fever:-        

  1. खुद को बारिश मे भीगने से बचाए
  2. रात को सोने से पहले हल्दी वाले दूध का सेवन करे
  3. बाहर का खाना खाने से परहेज करे
  4. साफ सफाई का पूरा ध्यान दे
  5. घर पर मच्छर है तो पेस्ट स्प्रे अपनाए