क्या आपको भी है किडनी स्टोन? तो इन बातों का ख्याल रखें

किडनी हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग होता है। हालांकि प्राकृतिक तौर पर ही किडनी बहुत मजबूत अंग होता है। लेकिन कई बार हम अपनी कुछ गलतियों और लापरवाही की वजह से किडनी की समस्याओं की चपेट में आ जाते हैं। किडनी की अहमियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ब्लड फिल्टर के रूप में काम करने वाले इस ऑर्गन के बिना व्यक्ति का जीवित रहना मुश्किल है। ऐसे में अगर आप हमेशा स्वस्थ रहना चाहते है तो किडनी की देखभाल बहुत जरूरी है। किडनी जब खून को फिल्टर करती है तो उसमें से सोडियम और कैल्शियम के अलावा अन्य मिनरल्स के अवशेष बारीक कणों के रूप में निकल कर यूरेटर के माध्यम से ब्लैडर तक पहुंचते हैं, जो यूरिन के साथ शरीर से बाहर निकल जाते हैं। लेकिन जब कभी-कभी खून में इन तत्वों की मात्रा बढ़ जाती है तो ये किडनी में जमा होकर रेत के कणों या पत्थर के टुकडों जैसा आकार ग्रहण कर लेते है और इनसे ब्लैडर तक यूरिन पहुंचने के रास्ते में रुकावट आती है।

किडनी खराब होने के लक्षण

जब भी किसी की किडनी में कोई समस्या पैदा होती है उसके लक्षण साफ तौर पर शरीर में दिखते हैं। वो अलग बात है कि व्यक्ति कभी अंजाने में और कभी लापरवाही के चलते इन्हें नजरअंदाज कर देता है। आइए जानते हैं क्या हैं किडनी खराब होने के लक्षण। पेट में तेज दर्द, बार-बार टॉयलेट जाना, पेशाब करते वक्त हल्का दर्द होना, पेशाब के साथ ब्लड आना, कंपकंपी के साथ बुखार, भूख न लगना और जी मिचलाना आदि किडनी खराब होने के मुख्य लक्षण हैं।

  • कमजोरी और थकान महसूस होना
  • घुटनों में सूजन।
  • भूख न लगना और उल्टी, जी-मिचलने जैसी समस्या होना।

किडनी स्टोन के उपचार

  • ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीए. प्रतिदिन चार लीटर पानी का सेवन किडनी से स्टोन हटाने में मदद करता है.
  • नींबू में सिट्रिक एसिड की प्रचुर मात्रा पायी जाती है। ऐसे में, नींबू के रस में मौजूद सिट्रिक एसिड कैल्शियम बेस वाले स्टोन को तोड़ने का काम करता है,और इसे दुबारा बनने से भी रोकता है।
  • कैल्शियम की अधिक डाइट ले. कैल्शियम की अधिक डाइट किडनी में जमा स्टोन को तोड़ने और बाहर निकालने में मददकारती हैं, ऐसे में दूध, नट्स, मक्खन का सेवन भरपूर मात्रा में करे.
  • राजमा फाइबर का एक अच्छा स्रोत माना जाता है, इसे लोग किडनी बीन्स के नाम से भी जानते हैं। ऐसे में राजमा, किडनी और ब्लेडर से जुड़ी हर तरह की समस्या से राहत दिलाने में मदद करता है। आप इसका सेवन किसी भी रूप में कर सकती हैं, आप इसके भिंगोये हुए पानी को भी पी सकती हैं, क्योंकि यह भी बेहद फायदेमंद होता है।
  • पेन किलर:- जब कभी भी हमे हमारे शरीर किसी भी अंग में दर्द कि शिकायत होती है तो हम बिना सोचे समझे ही दर्द कि दावा का प्रयोग कर लेते हैं। उस समय तो हमे उस दर्द से निजात मिल जाती है। लेकिन दर्द की दवाओं (Pain Killer) का प्रयोग बिना डॉक्टर की सलाह के करने से शरीर के कई अंगों को नुकसान पहुंचता है। चूंकि किडनी शरीर का फिल्टर है, इसलिए दवाइयां इसमें पहुंच का उसे भी डैमेज करने लगती है। अतः बिना डॉक्टर कि सलाह के दर्द कि दवाइयों का सेवन न करें।
  • खुद को फिट रखें – अपना आदर्श बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) बनाए रखें। सप्ताह में पांच बार घूमना, साइकिल चलाना या तैराकी जैसे सामान्य तीव्रता वाले व्यायाम कम से कम 30 मिनट तक करें।
  • जीरे को चीनी के साथ समान मात्रा में पीसकर पानी में मिलाकर दिन में तीन बार एक चम्मच लेने से भी लाभ होता है। प्रतिदिन ठंडे पानी के साथ इसे लेने से किडनी स्टोन बहुत जल्दी पेशाब के माध्यम से निकल जाएगा।
  • गुर्दे की पथरी होने पर तुलसी के पत्‍तों का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। इसमें पाया जाने वाला विटामिन बी पथरी से निजात दिलाने में मदद करता है।
  • गुर्दे की पथरी के लिए सौंफ एक रामबाण उपचार है। यह आपकी किडनी को साफ-सुथरा रखने में मदद करती है। इसके लिए सौंफ, मिश्री और सूखा धनिया 50-50 ग्राम मात्रा में लेकर रात को डेढ़ लीटर पानी में भिगोकर रखें और 24 घंटे बाद इसे छानकर पेस्‍ट बनाएं। अब आधा कप पानी में एक चम्मच पेस्ट मिलाकर पिएं। इससे किडनी साफ होती है, और पथरी बाहर निकल जाती है।